Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2024 · 1 min read

हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।

हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
कोल किरात भील शोषित वनवासी हैं अपने भाई।।
हुई प्रतिक्षा पूरी मां सबरी केवट की राम मिले।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

1 Like · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
*मौत आग का दरिया*
*मौत आग का दरिया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
हमारे दौर में
हमारे दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
"दुःख-सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
Loading...