Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2018 · 1 min read

हिन्द के जवान

हिन्द के जवान
**************
हिन्द के जवान हो
वीर तुम महान हो
राष्ट्र को आतंक से
आज अब बचाइये।

वीरता अदम्य है
वीर आप धन्ध है
शत्रु के शीश को
काटते ही जाइये।

राष्ट्र यह अखण्ड है
तेज भी प्रचण्ड है
राष्ट्र के सम्मान में
राष्ट्र गान गाइये।

राष्ट्र का न खण्ड हो
अस्मिता न भंग हो
राष्ट्रद्रोहीयों को अब
मार कर भगाइये।

सर्वधर्म ध्वजा यहाँ
फहरे ये वो जहां
मिलजुल कर सभी
अमन व चैन लाइये।

जय जय माँ भारती
चलो करें आरती
राष्ट्र के सम्मान में
शीश अपना झुकाइये
……
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
Vijay kumar Pandey
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
"लाजिमी"
Dr. Kishan tandon kranti
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
*प्रणय प्रभात*
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
"किसान का दर्द"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
उसकी अदा तो प्रेम पुजारी लगी मुझे।
उसकी अदा तो प्रेम पुजारी लगी मुझे।
Sachin Mishra
शीर्षक - गुरु ईश्वर
शीर्षक - गुरु ईश्वर
Neeraj Agarwal
अगर मैं गलत हूं तो सही कौन है,अगर तू सही है तो गलत कौन है
अगर मैं गलत हूं तो सही कौन है,अगर तू सही है तो गलत कौन है
पूर्वार्थ
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU SHARMA
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...