Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

हिचकियां

आज तो हिचकियों ने पोल खोल दी थी उसकी
बीबी के साथ बैठा था जब वो
अचानक महबूबा को याद आ गई थी उसकी

कौन याद कर रहा है बीबी ने पूछा उसकी
मैं तो यहाँ तुम्हारे साथ हूँ
साथ में बीबी ये भी कह रही थी उसकी

शक्ल देखने लायक़ थी उसकी
बीबी का ख़ौफ इतना कि डर के मारे
जान हलक में आ गई थी उसकी

ज़ुबान खुल नहीं रही थी उसकी
जान तो बचानी थी अब
कहा आज तबियत ठीक नहीं है उसकी

ज़रूर कल अच्छे से खबर लेगा उसकी
मन में सोच रहा था जब वो ये
अचानक मोबाइल पर कॉल भी आ गई उसकी

अब तो और भी शामत आ गई थी उसकी
फिर क्या था दोस्तों
लग रहा था आज पोल ही खुल जाएगी उसकी

लेकिन आज क़िस्मत अच्छी थी उसकी
बीवी भी पानी लेने चली गई थी और
फ़ोन पर साइलेंट की सेटिंग भी ऑन थी उसकी

Language: Hindi
7 Likes · 2 Comments · 1423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
अगर आप केवल अपना स्वार्थ देखेंगे तो
अगर आप केवल अपना स्वार्थ देखेंगे तो
Sonam Puneet Dubey
यूं मुहब्बत में सब कुछ हारने वालों,
यूं मुहब्बत में सब कुछ हारने वालों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*प्रणय प्रभात*
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
"कर्म और भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
♥️
♥️
Vandna thakur
छल फरेब
छल फरेब
surenderpal vaidya
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
2572.पूर्णिका
2572.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
The Nature
The Nature
Bidyadhar Mantry
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
𑒫𑒱𑒬𑓂𑒫𑒏 𑒮𑒧𑒮𑓂𑒞 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒏𑒹𑒿 𑒯𑒧 𑒮𑒧𑓂𑒧𑒰𑒢 𑒠𑒻𑒞 𑒕𑒲 𑒂 𑒮𑒲𑒐𑒥𑒰 𑒏 𑒔𑒹𑒭𑓂𑒙𑒰 𑒮𑒯𑒼
𑒫𑒱𑒬𑓂𑒫𑒏 𑒮𑒧𑒮𑓂𑒞 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒏𑒹𑒿 𑒯𑒧 𑒮𑒧𑓂𑒧𑒰𑒢 𑒠𑒻𑒞 𑒕𑒲 𑒂 𑒮𑒲𑒐𑒥𑒰 𑒏 𑒔𑒹𑒭𑓂𑒙𑒰 𑒮𑒯𑒼
DrLakshman Jha Parimal
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...