Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2022 · 1 min read

हास्य कवि की पत्नी (हास्य घनाक्षरी)

हास्य कवि की पत्नी (हास्य घनाक्षरी)
#####################
पत्नी यह बोली सुनो मेरे पति कवि एक
कविता में रात – दिन मुझको भुनाते हैं
जनता के बीच जा के मुझको कुरूप नारी
कर्कश और थुलथुल-सी बताते हैं
इनके आरोप झूठे दूषित विचारधारा
पूछें आप इनसे कि फिर क्यों लगाते हैं
रपट लिखाउंगी मैं नारी- उत्पीड़न की
आपकी गवाही होगी जिनको सुनाते हैं
#####################
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
Chehre se sundar nhi per,
Chehre se sundar nhi per,
Vandana maurya
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
GOOD EVENING....…
GOOD EVENING....…
Neeraj Agarwal
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
DrLakshman Jha Parimal
*सिरफिरा (लघुकथा)*
*सिरफिरा (लघुकथा)*
Ravi Prakash
पातुक
पातुक
शांतिलाल सोनी
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
2733. *पूर्णिका*
2733. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
मैं हूँ ना
मैं हूँ ना
gurudeenverma198
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
💐प्रेम कौतुक-421💐
💐प्रेम कौतुक-421💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब कुछ चलाकिया तो समझ आने लगी है मुझको
अब कुछ चलाकिया तो समझ आने लगी है मुझको
शेखर सिंह
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
धड़कनें जो मेरी थम भी जाये तो,
धड़कनें जो मेरी थम भी जाये तो,
हिमांशु Kulshrestha
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
Loading...