Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

*हाय पैसा* 【 *कुंडलिया* 】

हाय पैसाकुंडलिया
■■■■■■■■■■■■■■
पैसा ज्यादा है बुरा , लाता सौ-सौ भोग
पतनशील जीवन हुआ , लगते ढेरों रोग
लगते ढेरों रोग , शत्रु अगणित बन जाते
करते काम तमाम , मार अपने लटकाते
कहते रवि कविराय ,रखो शुभ जीवन ऐसा
कहे न मुख वाचाल , हाय पैसा हा पैसा
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
मैं भारत हूं (काव्य)
मैं भारत हूं (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
बारिश की बूंदें
बारिश की बूंदें
Surinder blackpen
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
# अंतर्द्वंद ......
# अंतर्द्वंद ......
Chinta netam " मन "
💐अज्ञात के प्रति-31💐
💐अज्ञात के प्रति-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
Anil chobisa
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
वीर साहिबजादे
वीर साहिबजादे
मनोज कर्ण
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
Success_Your_Goal
Success_Your_Goal
Manoj Kushwaha PS
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो चली थी, साँसों में बेबसी का संगीत था, धड़कने बर्फ़ सी जमीं थी।
सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो चली थी, साँसों में बेबसी का संगीत था, धड़कने बर्फ़ सी जमीं थी।
Manisha Manjari
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
दोहा-*
दोहा-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
Loading...