Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 23, 2022 · 1 min read

*हाय पैसा* 【 *कुंडलिया* 】

*हाय पैसा* 【 *कुंडलिया* 】
■■■■■■■■■■■■■■
पैसा ज्यादा है बुरा , लाता सौ-सौ भोग
पतनशील जीवन हुआ , लगते ढेरों रोग
लगते ढेरों रोग , शत्रु अगणित बन जाते
करते काम तमाम , मार अपने लटकाते
कहते रवि कविराय ,रखो शुभ जीवन ऐसा
कहे न मुख वाचाल , हाय पैसा हा पैसा
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

7 Views
You may also like:
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
पिता
Satpallm1978 Chauhan
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Mamta Rani
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop Sonsi
Loading...