Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Feb 2024 · 1 min read

हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज

हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का जब कोई आपके सिर पर हाथ रख थे या फिर हाथ से पीठ थपथपा कर आपको शाबाशी दे दे कुछ ऐसा आपको करना है।
RJ Anand Prajapati

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
Shweta Soni
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
फागुन
फागुन
पंकज कुमार कर्ण
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
चुका न पाएगा कभी,
चुका न पाएगा कभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
■
■ "डमी" मतलब वोट काटने के लिए खरीद कर खड़े किए गए अपात्र व अय
*Author प्रणय प्रभात*
3223.*पूर्णिका*
3223.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
"अग्निस्नान"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दोहा
दोहा
sushil sarna
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
Loading...