Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

हाथी के दांत

हाथी के दांत

हिन्दी दिवस पर विधानसभा में व्याख्यान हेतु डॉ. राघवेंद्र जी को आमंत्रित किया गया था। वे दुनियाभर के विश्वविद्यालयों में गेस्ट लेक्चरर के रूप में व्याख्यान देते रहे हैं। उनकी व्याख्यान सुनकर लोग भावविभोर हो जाते हैं।
आज भी कुछ ऐसा ही हुआ। उनकी “हिन्दी की गौरवशाली अतीत और उज्ज्वल भविष्य” विषय पर आधारित व्याख्यान विधानसभा में उपस्थित सभी विधायक, अधिकारी, पत्रकार एवं अन्य आमंत्रित लोग मंत्रमुग्ध हो सुनने लगे।
अपनी पी-एच.डी. के लिए मैंने उनसे साक्षात्कार के लिए समय मांगा, तो उन्होंने शाम को 8 बजे होटल में बुला लिया।
नियत समय पर मैं वहाँ पहुँच गया। औपचारिक अभिवादन के बाद उन्होंने कहा, “देखो ब्रदर, अच्छी क्वालिटी की इंटरव्यू लेना है तो पहले ही बता दे रहा हूँ कि मैं दिल की बात अच्छे से अँग्रेजी में ही बोल सकता हूँ। हाँ, तुम मुझसे हिन्दी में क्वेश्चन कर सकते हो।”
“माफी चाहता हूँ महोदय, मैं अँग्रेजी नहीं जानता। इजाजत दीजिए मुझे। शुभ रात्रि।” मैं बिना समय गँवाए लौट आया।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
मां
मां
Sûrëkhâ Rãthí
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
Kanchan Alok Malu
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
Aksar rishte wahi tikte hai
Aksar rishte wahi tikte hai
Sakshi Tripathi
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
2698.*पूर्णिका*
2698.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
प्रार्थना
प्रार्थना
Shally Vij
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
Aditya Prakash
Loading...