Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 1 min read

हाईकु-एकादश

हालातों की जब भी बात हुई किसान की हालत किसी से छिपी नही है इतिहास बताता है विदेशियों के आने के पूर्व यहाँ सभी कुछ समृद्ध था मगर जो कुछ हुआ इतिहास गवाह है इन्ही भावों को हमने संक्षिप्त विधा हाईकु मे कहने का प्रयास किया है देखिएगा……

हाईकु-एकादश

हालात देखें
भारतीय किसान
कैसे रहता

विदेशी पूर्व
इतिहास ठीक था
बाद बिगड़ा

हमारे देश
जमीनदार नही
ईमानदार

जमीनदारी
विदेशियों की नीति
लूटमार की

कृषि उत्पाद
पशु पालन आदि
आज वेहाल

जीवन देता
अन्नदाता किसान
हम क्या देते

अव मूल्यन
कृषि घाटे का सौदा
प्रगति कैसे

उत्तम किस्म
उत्पाद बड़ाईए
निर्यात हेतु

अधिक मिले
सरकारी बजट
कृषि के लिए
१०
अपना देश
ऋषि कृषि संस्कृति
क्लेश न लेश
११
सच मानिए
कृषक से जीवन
वरना जड़

राजेन्द्र’अनेकांत’
बालाघाट दि.२०-०२-१७

Language: Hindi
592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
■ मिली-जुली ग़ज़ल
■ मिली-जुली ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
Give it time. The reality is we all want to see results inst
Give it time. The reality is we all want to see results inst
पूर्वार्थ
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन में ऐश्वर्य के,
जीवन में ऐश्वर्य के,
sushil sarna
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
सैनिक
सैनिक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
"चक्रव्यूह"
Dr. Kishan tandon kranti
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
First impression is personality,
First impression is personality,
Mahender Singh
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
डर
डर
Sonam Puneet Dubey
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
दिन  तो  कभी  एक  से  नहीं  होते
दिन तो कभी एक से नहीं होते
shabina. Naaz
Loading...