Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 21, 2016 · 1 min read

हाइकु :– हुस्न बिखेरा !!

हाइकु :– हुस्न बिखेरा !!

ऐसा गुरूर !
मद मस्त नशे मे
छाया सुरूर !१!

करती सौदा !
यौवन बेचकर
मरती जिन्दा !२!

हुस्न बिखेरा !
बिकता बाजार मे
माटी का ढेरा !३!

264 Views
You may also like:
मेरी हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय ।
Kanchan sarda Malu
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
वक्त की चौसर
Saraswati Bajpai
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
✍️मैं और वो..(??)✍️
"अशांत" शेखर
सच एक दिन
gurudeenverma198
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
कबीरा...
Sapna K S
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
Loading...