Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2022 · 1 min read

हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)

================================
संग्राम ना हो,
राम की थी पहल!
रावण ज़िद।
———————–
रण दौरान,
कई निर्दोष मरे!
रावण हठ।
————————
दांव पे लगी,
रावण की प्रतिष्ठा!
महा संग्राम।
————————
रणभूमि में,
श्री राम की विजय!
रावण वध।
————————
राज्याभिषेक-
विभीषण का किया!
राम की भेंट।
————————-
अग्नि परीक्षा-
सीता को देनी पड़ी!
पाक जानकी।
=====================
***************जय श्री राम*
=====================
*रचयिता: प्रभुदयाल रानीवाल*
===*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*====
**************************

5 Likes · 4 Comments · 776 Views
You may also like:
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
बुआ आई
राजेश 'ललित'
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
Anamika Singh
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
आदर्श पिता
Sahil
पिता
Meenakshi Nagar
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
आप हारेंगे हौसला जब भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...