Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

हाइकु :– ज़मीर बेचा !!

हाइकु :– ज़मीर बेचा !!

ज़मीर बेचा ,
था दौलत का अंधा !
मरा या जिंदा !1!

नव बिहान !
भोजन की तड़प ,
पंछी चहके !2!

गिन-गिन के ,
वो सितारे खा गया !
सुबह हुई !3!

मौत से प्यारी !
ये दौलत की भूख !
मीठी गराल !4!

Language: Hindi
1 Like · 560 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
वीर हनुमान
वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
2884.*पूर्णिका*
2884.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
"प्यार की नज़र से"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
विरह
विरह
Neelam Sharma
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
*बाल कवि सम्मेलन में सुकृति अग्रवाल ने आशु कविता सुना कर सबको चकित कर दिया*
*बाल कवि सम्मेलन में सुकृति अग्रवाल ने आशु कविता सुना कर सबको चकित कर दिया*
Ravi Prakash
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
💐प्रेम कौतुक-377💐
💐प्रेम कौतुक-377💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीने की
जीने की
Dr fauzia Naseem shad
गीत-14-15
गीत-14-15
Dr. Sunita Singh
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
Loading...