Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 5, 2016 · 1 min read

हर दफा वो ऊँगली हम पर ही उठाता कियुं है

बिठा के पलकों पर नजरों से गिराता क्यूं है
दाव ये सारे वो हम पर ही आजमाता क्यूं है
********************************
क्या हुआ जो एक बार हम खता कर बेठे
हर दफा वो ऊँगली हम पर ही उठाता क्यूं है
********************************
कपिल कुमार
05/08/2016

130 Views
You may also like:
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
✍️झूठ और सच✍️
"अशांत" शेखर
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सच एक दिन
gurudeenverma198
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
सच्चा प्यार
Anamika Singh
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
"अशांत" शेखर
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
इज्जत
Rj Anand Prajapati
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
An abeyance
Aditya Prakash
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
Loading...