Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

हम नही रोते परिस्थिति का रोना

हम नही रोते परिस्थिति का रोना
दुनिया भर के सामने।
इसका ये अर्थ तो नहीं कि अपने
हालात अच्छे हैं।
ये आँखे झुकी हुई है सम्मान में
बड़ों के।
इसका ये अर्थ न समझना कि हम
नासमझ और बच्चे है।
लगा लें वे आरोप भले ही कितने
हम पर।
इसका ये अर्थ नही है कि हम झूठे
और वे सच्चे है।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

1 Like · 420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भावो को पिरोता हु
भावो को पिरोता हु
भरत कुमार सोलंकी
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उम्र ए हासिल
उम्र ए हासिल
Dr fauzia Naseem shad
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
*अध्याय 11*
*अध्याय 11*
Ravi Prakash
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
मौसम
मौसम
Monika Verma
..
..
*प्रणय प्रभात*
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
Rituraj shivem verma
दरकती ज़मीं
दरकती ज़मीं
Namita Gupta
Loading...