Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

हम इतने सभ्य है कि मत पूछो

हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
जब भी कभी किन्नरों को देखते हैं तो बस
उनको देखते ही जाते हैं….
हम ठहरे समाज के स्वघोषित ठेकेदार
हमने उनको उनकी माँ से अलग किया
फिर उनसे ताली भी बजवाया है
पढ़ लिख गए तो क्या हुआ?
हमने तो उनको अपने घरों में नचवाया है
ये सोचकर कि इनकी दुआ में असर होता है
अपनी दहलीज़ के अंदर कदम रखवाया है
वरना वो किस काम के हैं न नर हैं न नारी
मुझे तो लगता है उनके सीने में दिल भी नही होते
न ही जिस्म में उनके हमारी तरह लाल लहू।
इसलिए तो हम ठेकेदारों ने
उनको समाज से दूर फिकवाया है

224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जाते हैं संसार से, जब सब मानव छोड़ (कुंडलिया)
जाते हैं संसार से, जब सब मानव छोड़ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ Rãthí
खालीपन
खालीपन
MEENU
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
★SFL 24×7★
★SFL 24×7★
*Author प्रणय प्रभात*
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सर्वाधिक खुशहाल देश"
Dr. Kishan tandon kranti
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
💐प्रेम कौतुक-503💐
💐प्रेम कौतुक-503💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
rekha mohan
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
ज़रा पढ़ना ग़ज़ल
ज़रा पढ़ना ग़ज़ल
Surinder blackpen
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...