Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।

हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
सांस लेना भी अब है शामिल गुनाहों में।

क्यों छोड़ कर चले दिये तुम सरेराह मुझे
क्या। शामिल नहीं थे हम,तेरी पनाहों में।

थक गई हूं मैं,ज़रा सांस तो ले लेने दे मुझे
कयामत के दिन होंगे हम तेरे खैरख्वाहों में।

ये जिंदगी भी कोई जीने लायक है तू बोल
डूबे रहते हैं हरदम,जब हम बस आहों मे ।
सुरिंदर कौर

526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
सफलता
सफलता
Babli Jha
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
Loading...