Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 2 min read

हमारी सोच

शीर्षक – हमारी सोच
हमारी सोच सभी मानवतावादी सोच अलग-अलग होती है और हमारी सोच हमारे वातावरण और हमारे रहन-सहन के साथ बनती है हमारे विचार ही हमारी सोच को जन्म देते हैं। हमारी सोच में सभी मानवता वादी जीवन सांसारिक सुख समृद्धि और सफलता के साथ साथ ही होती हैं।
सच और मन की जीवन में हमारी सोच ही रंगमंच पर हम सभी जानते हैं। फिर भी हम जीवन में एक दूसरे के साथ विचार हम अपनी बातें साझा करते हैं जिससे हमारे जीवन में एक समाज और सामाजिकता का संसार बनता है और यही संसार हमारी सोच के साथ-साथ हमें जीवन में आगे बढ़ने की सोच देता हैं।
आज आधुनिक युग में संगीता एक आधुनिक विचारों वाली आधुनिक नारी है जिसे बचपन में कोई अनाथालय में पालने में छोड़ गया था अनीता इस अनाथालय में पढ़ लिखकर बड़ी हुई थी। हमारी सोच के साथ-साथ संगीता की सोच भी समाज के साथ अलग थी क्योंकि उसकी विचार में जब वह समझदार हो चुकी थी तो मैं जान चुकी थी एक नारी का अनाथालय में रहना और उसका पालन पोषण होना वह उसकी सोच के साथ-साथ एक समझ बन चुका था संगीता समझ चुकी थी आज वह अनाथालय में जो जीवन व्यतीत कर रही है वह भी किसी समय उसके जन्म के साथ-साथ उसके जन्म देने वाली नारी की हमारी सोच होती है। आज आधुनिक युग में संगीता अपने को अनाथालय में पलकर पढ़ लिखकर बड़ी हुई। और जब समाज में जाती है तब वही समाज उसको अनाथ की संज्ञा देता है हमारी सोच के साथ-साथ हम उन अनाथ बच्चों को कैसे कह दे हैं की वह अनाथ है। हम सभी सामाजिक प्राणी हैं और हमारी सोच भी कह सकती है की अनाथालय में जो अनाथ बच्चे हैं वह भी तो किसी न किसी तरह से जन्म लेते हैं और जिन्होंने जन्म लिया उनके माता-पिता या जन्म देने वाले का नाम जरूर होता होगा बस फर्क इतना है कि हमारी सोच कि हम जब-अपने जन्म देने वाले या परिवार को नहीं पाते हैं। अनाथ की संज्ञा देते है।
हमारी सोच तो हमारे जीवन और सामाजिक स्तर को बनाती है। बस हमारी सोच ही जीवन के साथ हम सभी को एक दूसरे का सहयोग या असहयोग देती हैं। आज हम सभी के जीवन का महत्वपूर्ण भाग हिस्सा हमारी सोच ही होती है हमारी सोच को हम कितना भी लिख सकते हैं। बस हमारी सोच ही जीवन के साथ होती हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
Tag: लेख
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
-- धरती फटेगी जरूर --
-- धरती फटेगी जरूर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3097.*पूर्णिका*
3097.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
💐प्रेम कौतुक-174💐
💐प्रेम कौतुक-174💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
Rajesh vyas
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
Loading...