Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

गीत
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

पहुंचे देश शिखर पर अपना।
राम राज्य का सच हो सपना।
सभी सुखी, सब रहें निरोगी,
कोई तो सोचो ऐसा मंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

सबको जीने की आजादी।
रहे न कोई भी अपराधी।
सभी जियें सबको जीने दें,
बने ऐसा सरकारी तंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

मिले सभी को रोजी रोटी।
कहें किसी को खरी न खोटी।
सीख जाएं सब प्यार की भाषा,
कोई तो खोजो ऐसा यंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

मिले सभी को अच्छी शिक्षा।
हर नारी को मिले सुरक्षा।
राम राज्य की करें कल्पना,
और न हों षडयंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।

…….✍️सत्य कुमार ‘प्रेमी’

Language: Hindi
Tag: गीत
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुनाह ना करके भी
गुनाह ना करके भी
Harminder Kaur
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
दिल धोखे में है
दिल धोखे में है
शेखर सिंह
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
gurudeenverma198
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बाखुदा ये जो अदाकारी है
बाखुदा ये जो अदाकारी है
Shweta Soni
**मातृभूमि**
**मातृभूमि**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
आत्मा की शांति
आत्मा की शांति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*विभीषण (कुंडलिया)*
*विभीषण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...