Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 1 min read

हमलोग

खुद का चेहरा हसीन लगता है।
यूॅ ही मिजाज रंगीन लगता हैं।
अपने में सिमटकर यूँ शरमा गये ।
मन में हंसी उठती हैं।
कैसा हैं यहाँ का प्यार’
जो एक पल से शुरू
आधे पल में खत्म होती है।
काश बोल पाते ताउम्र
रहेगा ये प्यार । – डॉ सीमा कुमारी ,बिहार, भागलपुर, दिनांक 17-6-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 4 Comments · 265 Views
You may also like:
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
Memories in brain
Buddha Prakash
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़तरे की घंटी
Shekhar Chandra Mitra
बहुत कुछ कहना है
Ankita
जिन्दगी की अहमियत।
Taj Mohammad
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेंहदी दा बूटा
Kaur Surinder
Advice
Shyam Sundar Subramanian
करीं हम छठ के बरतिया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
माँ
विशाल शुक्ल
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
शिशिर की रात
लक्ष्मी सिंह
*राजनीति में बाहुबल का प्रशिक्षण (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हार जाती है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...