Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2022 · 1 min read

हमलोग

खुद का चेहरा हसीन लगता है।
यूॅ ही मिजाज रंगीन लगता हैं।
अपने में सिमटकर यूँ शरमा गये ।
मन में हंसी उठती हैं।
कैसा हैं यहाँ का प्यार’
जो एक पल से शुरू
आधे पल में खत्म होती है।
काश बोल पाते ताउम्र
रहेगा ये प्यार । – डॉ सीमा कुमारी ,बिहार, भागलपुर, दिनांक 17-6-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

2 Likes · 4 Comments · 153 Views
You may also like:
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
होली
AMRESH KUMAR VERMA
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
वतन ही मेरी ज़िंदगी है
gurudeenverma198
सुरज और चाँद
Anamika Singh
✍️सूर्यज्वाळा✍️
'अशांत' शेखर
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
नया सपना
Kanchan Khanna
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
Loading...