Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 1 min read

हमलोग

खुद का चेहरा हसीन लगता है।
यूॅ ही मिजाज रंगीन लगता हैं।
अपने में सिमटकर यूँ शरमा गये ।
मन में हंसी उठती हैं।
कैसा हैं यहाँ का प्यार’
जो एक पल से शुरू
आधे पल में खत्म होती है।
काश बोल पाते ताउम्र
रहेगा ये प्यार । – डॉ सीमा कुमारी ,बिहार, भागलपुर, दिनांक 17-6-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✍️यादों के पलाश में ..
✍️यादों के पलाश में ..
'अशांत' शेखर
दीदार
दीदार
Vandna thakur
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अक्लमंद --एक व्यंग्य
अक्लमंद --एक व्यंग्य
Surinder blackpen
मेरे अल्फ़ाज़
मेरे अल्फ़ाज़
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिव्य प्रकाश
दिव्य प्रकाश
Shyam Sundar Subramanian
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
"होना है क्यों हताश ज़रा हट के सोचिए।
*Author प्रणय प्रभात*
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
💐अज्ञात के प्रति-48💐
💐अज्ञात के प्रति-48💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
gurudeenverma198
2887.*पूर्णिका*
2887.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
विमला महरिया मौज
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...