Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम

हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ज़ख्म हैं वो किस तरह दिखाएं हम
न जाने कितनी ही बातें सुनानी हैं तुमको
ज़रा सा आओ कभी पास तो सुनाएं हम

डॉ. अर्चना गुप्ता
08.02.2024

2 Likes · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
*लगता है अक्सर फँसे ,दुनिया में बेकार (कुंडलिया)*
*लगता है अक्सर फँसे ,दुनिया में बेकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*Author प्रणय प्रभात*
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
"ख़्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
खुद पर यकीन करके
खुद पर यकीन करके
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
Vishal babu (vishu)
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2660.*पूर्णिका*
2660.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...