Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2022 · 1 min read

हक जता तो दू

मैं तुझपे हक जता तो दू
मेरे दिल में क्या है
मैं तुझे बता तो दू
मुझे तेरी बदनामी का डर है
वरना मुझे तुमसे कितना प्यार है
मैं सबके सामने बता तो दू…
* Swami ganganiya *

Language: Hindi
Tag: शेर
394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
ruby kumari
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
मेरी मोहब्बत का चाँद
मेरी मोहब्बत का चाँद
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
"दीपावाली का फटाका"
Radhakishan R. Mundhra
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
Ravi Prakash
????????
????????
शेखर सिंह
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
2719.*पूर्णिका*
2719.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
एक किस्सा तो आम अब भी है,
एक किस्सा तो आम अब भी है,
*Author प्रणय प्रभात*
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
Loading...