Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

हक़ीक़त में

आंखों में ख़्वाब थे
हक़ीक़त में कुछ न था।
दिल में हमारे बाक़ी
एहसास कुछ न था ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
12 Likes · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
जब ज़रूरत के
जब ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
🙅परम ज्ञान🙅
🙅परम ज्ञान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
उसने कौन से जन्म का हिसाब चुकता किया है
उसने कौन से जन्म का हिसाब चुकता किया है
कवि दीपक बवेजा
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
Sanjay ' शून्य'
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...