Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी

#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
■ “बेरोज़गारी” का अंत “तुरंत”
【प्रणय प्रभात】
देश की सबसे बड़ी समस्या “बेरोज़गारी” का अंत तुरंत हो सकता है। वो भी एक झटके में हंड्रेड परसेंट। अचूक नुस्खा मैं बताता हूँ। चमत्कार आप और आपकी सरकार ही नहीं पूरा संसार देखेगा और आप देखते ही देखते “विश्वगुरु” हो जाएंगे। वो भी आपके अपने चिर-परिचित तौर-तरीक़ों से। जिनका पेटेंट आपने पहले से करा रखा है।
करना बस इतना सा है कि ”बे-रोज़गार” का “बे” हटा कर वहां “बा” फिट कर दें। सब “बा-रोज़गार” हो जाएंगे और बेरोज़गारी जैसा शब्द वैसे ही ख़त्म हो जाएगा जैसे “ग़रीबों” को मिटा देने से ग़रीबी मिटती है। वैसे भी “बे” जैसे बेहूदे देसी शब्द से “बा” जैसा गुजराती शब्द ज़्यादा वज़नदार है। वैसे भी नाम बदल कर इतिहास बदल डालने में मास्टरी है आपको। हो जाए एक और बदलाव। अमृत-काल में। बदलाव की बयार के बीच।। फार्मूला पसंद आए तो मुझे भी दे देना “छद्म-श्री” टाइप का एकाध पुरुस्कार। ताकि मैं भी कर पाऊं जय-जयकार।।

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3267.*पूर्णिका*
3267.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
तुम आ जाओ एक बार.....
तुम आ जाओ एक बार.....
पूर्वार्थ
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
आ गया है मुस्कुराने का समय।
आ गया है मुस्कुराने का समय।
surenderpal vaidya
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
Anil chobisa
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन ''केसरा''
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#उल्टा_पुल्टा
#उल्टा_पुल्टा
*Author प्रणय प्रभात*
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन में नमन करूं..
मन में नमन करूं..
Harminder Kaur
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
Ravi Prakash
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
Loading...