Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

स्वयं का बैरी

मानव मानव का दुश्मन क्यों है ?
सरल सा जीवन दुर्लभ क्यों है ?
जाति, धर्म, संप्रदाय की उलझन में,
प्रत्येक व्यक्ति उलझा क्यों है ?
समाज में विद्रूपता का बढ़ता तांडव,
संवेदनाओं का आभाव सा क्यों है . ?
सृष्टि में है, श्रेष्ठ मनुष्य जो सबसे,
नैतिकता से वह रिक्त सा क्यों है ?
हाड मांस से निर्मित मानव,
स्वयं का बैरी स्वयं ही क्यों हैं ?

डॉ फौजिया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
6 Likes · 612 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
"इंसानियत तो शर्मसार होती है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्यो नकाब लगाती हो
क्यो नकाब लगाती हो
भरत कुमार सोलंकी
जोड़ियाँ
जोड़ियाँ
SURYA PRAKASH SHARMA
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जीवन में प्रकाश, जुगनू की तरह आया..
जीवन में प्रकाश, जुगनू की तरह आया..
Shweta Soni
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
मैं मेरी कहानी और मेरी स्टेटस सब नहीं समझ पाते और जो समझ पात
मैं मेरी कहानी और मेरी स्टेटस सब नहीं समझ पाते और जो समझ पात
Ranjeet kumar patre
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2957.*पूर्णिका*
2957.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
अव्यक्त प्रेम (कविता)
अव्यक्त प्रेम (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
6
6
Davina Amar Thakral
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
पूर्वार्थ
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
ग़ज़ल -संदीप ठाकुर- कमी रही बरसों
ग़ज़ल -संदीप ठाकुर- कमी रही बरसों
Sandeep Thakur
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
Loading...