Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

स्थाई- कहो सुनो और गुनों

स्थाई- कहो सुनो और गुनों
ओ यारों आई अंधेरी रात है।
जो जन बुरा करत हैं यारों,
बुद्धि उसकी बोरात है।।
(१)
करनी जो जैसी करेगा वन्धु,
वो वैसा ही पायेगा।
धरनी धीर धर्म धारण धरेगा वन्धु,
कोई नहीं बचके जायेगा।।
उड़ान-कर्म किये अज्ञानी बारे से,
का होत महादेव ढ़ारे से।।
कहो सुनो और गुनों ओ यारों,
आई अंधेरी रात है।।२
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
झांसी बुन्देलखण्ड

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
You can't AFFORD me
You can't AFFORD me
Vandana maurya
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
■ साहित्यपीडिया से सवाल
■ साहित्यपीडिया से सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...