Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2024 · 1 min read

स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही

स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
उसे हमेशा हार ही पंसद आया है…!

जिस दिन वो हार को पंसद नही करेगी
उस दिन वो जीत जाएगी…!!

~ आरती सिरसाट🍁

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
हाय अल्ला
हाय अल्ला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
Shweta Soni
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
" सूरज "
Dr. Kishan tandon kranti
नदी की मुस्कान
नदी की मुस्कान
Satish Srijan
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
*Author प्रणय प्रभात*
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
* कभी दूरियों को *
* कभी दूरियों को *
surenderpal vaidya
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
...
...
Ravi Yadav
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
Loading...