Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…

सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…

भाषा संयमित रखकर ही तर्क वितर्क करें। लड़ना है तो अपने अधिकारों के लिए लड़े। जो अपने लिए नहीं लड़ सकता उसका दूसरे के लिए लड़ना महज़ दिखावा है।
मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
फूल
फूल
Punam Pande
#काकोरी_दिवस_आज
#काकोरी_दिवस_आज
*Author प्रणय प्रभात*
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
आती है सब के यहाँ, खाती सबको मौत (कुंडलिया)*
आती है सब के यहाँ, खाती सबको मौत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
चाहे जितना तू कर निहां मुझको
चाहे जितना तू कर निहां मुझको
Anis Shah
2646.पूर्णिका
2646.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये आँखों से बहते अश्क़
ये आँखों से बहते अश्क़
'अशांत' शेखर
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
Loading...