Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2016 · 3 min read

सोनागाछी – कमाठीपुरा – जीबी रोड

सोनागाछी – कमाठीपुरा – जीबी रोड

सोनागाछी – कोलकाता, कमाठीपुरा – मुंबई, जीबी रोड – दिल्ली, ये नाम बहुत जाने पहचाने से लगते हैं | इन पर कितने ही बार प्रोग्राम बने हैं और डिस्कवरी चैनल, नेशनल जियोग्राफिक चैनल पर कितनी ही बार टेलीकास्ट हुए हैं | कितनी ही बार खबरिया चैनलों पर प्राइम टाइम में स्पेशल रिपोर्ट दिखाई गयी है और न जाने कितनी ही बार समाचार पत्रों में इनके बारे में लिखा जा चुका है |

इनके नाम सुनकर लगता है ये जगहें बहुत खास होंगी | जरूर यहाँ पर कोई ऐतिहासिक धरोहर होगी जो सभी इस ओर खींचे चले आते हैं | लगभग पूरे देश में ये नाम जाने और पहचाने जाते होंगे | जितने भी वयस्क इन नामों से परिचित हैं वो ये भी जानते हैं कि इन जगहों का नाम इतना क्यों है ? जो लोग पहली बार दिल्ली, कोलकाता, मुंबई जाते हैं इन जगहों पर जाकर ज़रूर देखना चाहते हैं |

दरअसल ये नाम हमारे देश पर बदनुमा दाग हैं | जो एक ऐसे काम के नाम से जाने जाते हैं जो कि हमारे देश में अभी तक गैरकानूनी है | ये देहव्यापार की देश की सबसे बड़ी मंडियां हैं | यहाँ पर खुले आम जिस्मफरोशी का काला धंधा चलता है |

मुझे हैरानी होती है जब हमारे देश में देह व्यापार को कानूनी मान्यता ही नहीं है तो फिर ये इतने खुलेआम चल कैसे रहा है | जहाँ तक मेरा अंदाजा है दूर दराज के छोटे छोटे से गाँवों से भोली भाली लड़कियों को बहला फुसलाकर, नेपाल से तस्करी के माध्यम से, या कहीं से छोटी छोटी बच्चियों अपहरण करके, प्यार के जाल में फंसाकर यहाँ लाकर इस धंधे में डाल दिया जाता है और ये मासूम लड़कियां यहाँ नरक जैसी ज़िन्दगी जीने को मजबूर होती हैं |

कोलकाता और मुंबई तो मैं नहीं गया लेकिन मैं कुछ सालों तक दिल्ली में ज़रूर रहा हूँ | इस बीच मुझे एक बार जीबी रोड जाने का अवसर मिला | वहां जो मैंने देखा उसे देखकर मैं हैरान था | मैं अपने बॉस की गाड़ी से ड्राईवर के साथ उस रोड से निकला तो ड्राईवर ने मुझसे पूछा, ” सर, आपको पता है ये कौन सी जगह है ?” मेरे न में जवाब देने पर उसने बताया कि हम जीबी रोड पर हैं | मैंने भी जीबी रोड का नाम पहले सुन रखा था लेकिन वहां जाने का पहला अवसर था | मैंने नजर उठाकर ऊपर खिडकियों की तरफ देखो | मैंने देखा, लगभग हर खिड़की पर लड़कियां और औरतों के समूह थे जिनका कमर से ऊपर का ही हिस्सा दिखाई दे रहा था | वो सभी लड़कियां/स्त्रियाँ अंतःवस्त्रों में खिडकियों के पास खड़ी थी और ग्रिल वाली खिडकियों से हाथ बाहर निकाल कर लोगों को अपने पास आने का इशारा कर रही थी | वही एक जगह का नजारा तो निराला ही था | उस जगह पर सड़क के एक तरफ खिडकियों से ये इशारेबाजी हो रही थी वहीँ सड़क के दूसरी ओर पुलिस चौकी भी थी |

ये देखकर तो मेरा सर ही घूम गया | ये क्या हो रहा है | मैं सोच रहा था क्या ये वाकई में गैरकानूनी काम है जो इतने खुले आम थाने के ही सामने चल रहा है | न जाने कितने ही परिवारों की इज्जत इन कोठों में क़ैद होंगी ? कितने ही परिवार अपनी बच्चियों के गुमशुदा होने की तारीख अभी तक याद करते होंगे ? क्या हमारा कानून इतना सस्ता है जो इन सबको इस नरक से मुक्ति नहीं दिलवा सकता बल्कि अपने ही सामने इस कुकृत्य को होते हुए देखता है |

इन जिस्म की मंडियों में रोज न जाने कितनी ही आहें और कराहें उठती होंगी और हर दिन कितने ही अरमानों का क़त्ल होता होगा | कितने ही ख़्वाबों की कब्रगाह होंगी ये मंडियां और इन जैसी और भी मंडियां | ये तो सिर्फ तीन नाम हैं, जो अक्सर सुनने में आते हैं | अभी कुछ दिनों पहले में एक लेख पढ़ रहा था जिसमे भारत की टॉप १० देह व्यापार मंडियों के नाम दिए थे | जब मैंने उसमे धर्मनगरी बनारस का भी नाम देखा तो मेरे आश्चर्य की कोई सीमा ही नहीं रही |अगर इन मंडियों की खाक छानी जाए तो कितने ही परिवारों की खुशियाँ लौट आयें और कितनी ही बच्चियों के लबों की मुस्कान वापस आ जाए |

मेरे मन में आज भी एक ही सवाल है जब जिस्मफरोशी गैरकानूनी है तब भी ये जिस्म की मंडियाँ कैसे इस तरह से बेख़ौफ़ होकर चल रही हैं |

ये विडियो मैंने नेट से साभार लिया गया है जो आपको जीबी रोड की कुछ झलक तो दिखला ही देगा :

http://www.punjabspectrum.co/misc/reality-gb-road-red-light-area-delhi/

सन्दीप कुमार
मौलिक, अप्रकाशित
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित
ब्लॉग : https://sandeip01.blogspot.in/2016/06/blog-post_3.html

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 6 Comments · 2078 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
■ दोहा देव दीवाली का।
■ दोहा देव दीवाली का।
*Author प्रणय प्रभात*
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
2866.*पूर्णिका*
2866.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
पुष्पों की यदि चाह हृदय में, कण्टक बोना उचित नहीं है।
पुष्पों की यदि चाह हृदय में, कण्टक बोना उचित नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
Sanjay ' शून्य'
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
* पानी केरा बुदबुदा *
* पानी केरा बुदबुदा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
जो किसी से
जो किसी से
Dr fauzia Naseem shad
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
Arvind trivedi
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
Loading...