Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 28, 2016 · 1 min read

सूर घनाक्षरी

पत्थर पहाड़ पत्ते, तपाये तपन तपें, आग आज अजगर, सा मुख फैलाये
आदमी आकुल अब, पशु- पक्षी दुखी सब, बुझाए बुझे न बुरे, हालात बनाये
पंख पसारे पवन, और उसारे अगन, अभिमानी मेघ बन, देखो इतराये
वन विभाग है कित, चिंता से चिंतित चित,यत्न युक्ति करो कोई, आग बुझ जाये

393 Views
You may also like:
पिता
विजय कुमार 'विजय'
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादें
kausikigupta315
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...