Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

सूर घनाक्षरी

पत्थर पहाड़ पत्ते, तपाये तपन तपें, आग आज अजगर, सा मुख फैलाये
आदमी आकुल अब, पशु- पक्षी दुखी सब, बुझाए बुझे न बुरे, हालात बनाये
पंख पसारे पवन, और उसारे अगन, अभिमानी मेघ बन, देखो इतराये
वन विभाग है कित, चिंता से चिंतित चित,यत्न युक्ति करो कोई, आग बुझ जाये

555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
मित्रो जबतक बातें होंगी, जनमन में अभिमान की
मित्रो जबतक बातें होंगी, जनमन में अभिमान की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सम्बन्धों की ज्यामिति"
Dr. Kishan tandon kranti
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता है
दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता है
'अशांत' शेखर
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
भ्रम का जाल
भ्रम का जाल
नन्दलाल सुथार "राही"
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Happy Holi
Happy Holi
अनिल अहिरवार"अबीर"
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...