Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

सुरक्षा कवच

लघुकथा

सुरक्षा कवच

“हें ये क्या है सर ? इस कार की स्पीडोमीटर में मेरी फैमिली फोटो ? माजरा क्या है ?” ड्राइवर रमेश ने आश्चर्यचकित होकर मालिक से पूछा।

“रमेश, आज से ये गाड़ी तुम ही चलाओगे। मेरी सभी गाड़ियों की स्पीडोमीटर में उसके ड्राइवर की फैमिली फोटो लगी होती है।” मालिक ने बताया।

“पर ऐसा क्यों सर ?” रमेश ने जिज्ञासावश पूछा।

“इसलिए कि ड्राइवर हमेशा गाड़ी चलाते समय सतर्क रहें। उन्हें याद रहे कि घर में उनके परिजन उसका इंतजार कर रहे हैं।” मालिक ने समझाया।

“वाह सर, मानना पड़ेगा आपको। क्या खूब दिमाग लगाया है आपने।” खुशी से झूमते हुए रमेश ने कहा।

– डॉ प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
1 Like · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
उसकी फितरत ही दगा देने की थी।
उसकी फितरत ही दगा देने की थी।
Ashwini sharma
3163.*पूर्णिका*
3163.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
गरिमा
गरिमा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
Dr Archana Gupta
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
श्रमिक
श्रमिक
Neelam Sharma
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
साया
साया
Harminder Kaur
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
बसंत
बसंत
Lovi Mishra
तुझसे लिपटी बेड़ियां
तुझसे लिपटी बेड़ियां
Sonam Puneet Dubey
अंधविश्वास
अंधविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
इंसान होकर जो
इंसान होकर जो
Dr fauzia Naseem shad
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...