Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

सुप्रभात

सुप्रभात

लेकर प्रभु का नाम।
शुरू करो निज काम।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
2452.पूर्णिका
2452.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
*Author प्रणय प्रभात*
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
"In the tranquil embrace of the night,
Manisha Manjari
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
sushil sarna
चाय दिवस
चाय दिवस
Dr Archana Gupta
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...