Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,

सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
पीछे मत देखना तब तक जब तक धाम न पहुंच जा।

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
"जस्टिस"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
पूर्वार्थ
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
// अगर //
// अगर //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
नारी के मन की पुकार
नारी के मन की पुकार
Anamika Tiwari 'annpurna '
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
"ढोंग-पसंद रियासत
*प्रणय प्रभात*
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
जीत जुनून से तय होती है।
जीत जुनून से तय होती है।
Rj Anand Prajapati
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
"इन्तेहा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...