Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2021 · 2 min read

** सुख और दुख **

** *** *** **** *** ** **** ****
दुनिया में कहीं ना कहीं हर वस्तु का महत्व है। कब कौन सी वस्तु अधिक महत्व रखती है। यह हमें पता नहीं होता है और यह सब समय निर्धारित करता है। कौन महत्वपूर्ण है। कौन नहीं है। वैसे हम कह सकते है।
कि इस दुनिया में ना तो सुख का महत्व है। ना दुख का जब तक मनुष्य जीवित है। तब तक उसके जीवन में सुख है दुख है और यह हर किसी के जीवन में लगे रहते हैं। तो उस जिंदगी का कोई खास महत्व नहीं है। ना तो सुख से उसे किसी अमरत्व की प्राप्ति होगी और ना ही ईश्वर की ,सुख एक ऐसी इच्छा है। जो मनुष्य को जीने की प्रेरणा तो देती है। लेकिन जिंदगी को समझने की नहीं। यही कारण है कि मनुष्य दुखी रहता है।
एक हिसाब से सुख, सुख का कारण भी बन सकता है। जब वह अधिक सुख से परेशान हो जाता है। तो उसे दुनिया का दुख भी सुख नजारा आए। तब एक बदलाव आता है। सुख में आकर इंसान हर स्थिति को भूल जाता है। उसे सुख के आनंद के सिवा कुछ नहीं दिखाई देता है। ना ही उसे दूसरों के दुख में कोई दुख नजर आता है। उसे अपने सुख से मतलब है। इस दुनिया में सुख-दुख से अलग मनुष्य को किस चीज की है प्राप्ति होती है? ये किसी को नही पता होता है।
लेकिन जिंदगी व्याप्त है। इंसान जितना सुख धन दौलत प्यार मोहब्बत दुनिया से पाता है। तो वह सही गलत की परख भूल जाता है। उसे हर जगह आनंद चाहिए। यह जहां जाता है। चाहता है कि उसे आनंद मिले सुख मिले लेकिन सकारात्मकता हमेशा मनुष्य के साथ नहीं रहती है और सकारात्मकता ही सुख का कारण होती है। कहीं ना कहीं नकारात्मकता उसे घेर ही लेती है। चाहे इंसान चाहे या ना चाहे ठीक उसी प्रकार सकारात्मकता है। जब वह प्रभावी रहती है। तब नकारात्मकता कहीं नजर नहीं आती है।
दुनिया भर की खुशियां भी चाहे मिले दुनिया चाहे आपकी सेवा भी करें धन दौलत की कमी ना हो।लेकिन नकारात्मकता जब हैवी होती है। तब कुछ भी चीज काम नहीं आती है और हर वस्तु बेकार नजर आती है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि इस दुनिया में ना तो सुख का महत्व है और ना दुख का और इन दोनों से अलग हम इस दुनिया में कुछ अन्य प्रभावी वस्तुएं नजर नहीं आती इन्हें वस्तुएं कहे या भावनाएं या विचार कहे यह आपके विचारों पर निर्भर करता है।
*** **** *** *** **
swami ganganiya

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 1048 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ अपनी-अपनी मौज।
■ अपनी-अपनी मौज।
*Author प्रणय प्रभात*
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
पूर्वार्थ
दिल लगाएं भगवान में
दिल लगाएं भगवान में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
चोट
चोट
आकांक्षा राय
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"सफलता की चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
श्रावणी हाइकु
श्रावणी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
surenderpal vaidya
कौन पंखे से बाँध देता है
कौन पंखे से बाँध देता है
Aadarsh Dubey
ये धोखेबाज लोग
ये धोखेबाज लोग
gurudeenverma198
Loading...