Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

सुख – एक अहसास ….

सुख – एक अहसास

मैं
बातें करती रही
एक अनजानी डोर के
गुम सिरे से
देर तक

मैं
बातें करती रही
अपने हाथों में लगी
तेरे नाम की हिना से
चुपके-चुपके
देर तक

मैं
बातें करती रही
ज़ह्न की कफ़स में कैद
सिसकते जज़्बात से से
देर तक

मैं
बातें करती रही
तेरे हिज़्र में डूबे
अफ़सुर्दा लम्हात से
देर तक

मैं
बातें करती रही
सुकून को मुट्ठी में दबाये
बिखरे सिन्दूर में
कहकहे लगाते
टुकड़े-टुकड़े हुए
सुख के अक्स से
देर तक

मैं
रुक गयी
बातें करते-करते
सुख की कँवारी सेज की
तड़पन देखकर
बू-ए-हिना की
उलझन देखकर
सुख के हिज़ाब में
दुख की दुल्हन देखकर

मैं
रुक गयी
बातें करते-करते
सुख और दुख के बीच
महीन यकीन की टूटी
छत देखकर
सोचने लगी
यदि सुख और दुख के बीच की
ये छत
न टूटी होती
तो क्या होता
शायद फिर
सुख और दुख का अहसास
शून्य का
आकाश होता

सुशील सरना

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
Love's Sanctuary
Love's Sanctuary
Vedha Singh
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
#अभी_अभी
#अभी_अभी
*प्रणय प्रभात*
जज़्बात - ए बया (कविता)
जज़्बात - ए बया (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब कुछ मिट गया
सब कुछ मिट गया
Madhuyanka Raj
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
"ग से गमला"
Dr. Kishan tandon kranti
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
"Multi Personality Disorder"
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Started day with the voice of nature
Started day with the voice of nature
Ankita Patel
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
3104.*पूर्णिका*
3104.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
उम्मीद.............एक आशा
उम्मीद.............एक आशा
Neeraj Agarwal
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
Loading...