Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2022 · 1 min read

*सीता जी : छह दोहे*

सीता जी : छह दोहे
_________________________
1
मिले स्वयंवर से जिन्हें, मनभावन श्रीराम
जनकनंदिनी राम-प्रिय, सीता तुम्हें प्रणाम
2
हॅंसते-हॅंसते वनगमन, सीता का ही काम
पति के पीछे चल पड़ीं, छोड़ स्वर्ग-सुखधाम
3
रावण कपटी आ गया, लेकर तपसी-रूप
सीता को यों ले गया, दसमुख वाला भूप
4
सोने का कब था हिरन, सब माया का खेल
धोखा खा सीता गईं,पाई लंका -जेल
5
जिनके पिता विदेह थे, पति पुरुषोत्तम राम
मन उन सीता को भजे, प्रतिदिन आठों याम
6
सदा-सदा मन में बसे, सुखद राम-दरबार
सीता जिसकी स्वामिनी, हनुमत जग-आधार
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
पूर्वार्थ
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
लड्डू बद्री के ब्याह का
लड्डू बद्री के ब्याह का
Kanchan Khanna
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
रूठी बीवी को मनाने चले हो
रूठी बीवी को मनाने चले हो
Prem Farrukhabadi
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-554💐
💐प्रेम कौतुक-554💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
2972.*पूर्णिका*
2972.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इज़हार ज़रूरी है
इज़हार ज़रूरी है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
जीवन पर
जीवन पर
Dr fauzia Naseem shad
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...