Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

सिसक दिल कीं …

कुछ हद तक समझ आई,

तेरी नराजगियों की कहानी,

क्या करे हम जो अडे हैं

बदलती नही है आदते ,

जो बरसो की है …

तुमने तो कहा था,

कुछ तुम बदलो ,

कुछ बदलेंगे हम लेकिन,

अडी है अहम की लकीरे ,

जो मिटती नही है …

मिलावट शायद खून में ही है,

दोष हम नही देते किसी को ,

अब क्या कहे,

नसीब में था जो लिखा,

मर्जी तो भगवान की ही है …

छोड के जाओगे तो क्या सहलोगे ,

टूटे दिल की तड़पन को ,

साथ में बंधा है वो फरिश्ता ,

जिसके लिये जिंदगी से भी ,

रुसवा होना नही है…

शोर तो कुछ देर होगा,

फिर से खामोशियाँ ही जीतेगी ,

संभल सको इस दौर से तो ,

सोच लेना अब ,

इनसे परहेज करना नही है…

समझ तो होगी ना तुममें ,

जो मैंने कहाँ उसे पढ सको,

कविता औरो के लिये होगी,

हमने तो सिसक ,

दिल की लिखी है …

1 Like · 22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यथार्थ
यथार्थ
Dr. Rajeev Jain
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
शेखर सिंह
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
DrLakshman Jha Parimal
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
Ravi Prakash
सोच कर हमने
सोच कर हमने
Dr fauzia Naseem shad
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
gurudeenverma198
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
भव- बन्धन
भव- बन्धन
Dr. Upasana Pandey
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
■ कौन बताएगा...?
■ कौन बताएगा...?
*Author प्रणय प्रभात*
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
Loading...