Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

सिर्फ़ सवालों तक ही

सिर्फ़ सवालों तक ही
साथ है ये दुनिया !
जवाबों का सफ़र
सबका अपना अपना है !!

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नियम, मर्यादा
नियम, मर्यादा
DrLakshman Jha Parimal
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
Khaimsingh Saini
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
...
...
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
पूर्वार्थ
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
Loading...