Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

*साहित्यिक बाज़ार*

मैं कुछ कहानियों को लिए बाजार में बैठा हूं। सस्ती, टिकाऊ, रसभरी, मज़ेदार कहानियाँ। उनपर भिनभिनाती मख्खियों को अपने अंगोछे से बार बार उड़ाता हुं। भिन्न से उड़ कर फिर आ बैठती हैं। सड़क के उस पार काफी चमक धमक है। एक नया मॉल खुला है उधर। सुना है काफी हैरतअंगेज़ कहानियाँ आई हैं बिकने को। बड़े बड़े शहरों में गढ़ी, बड़े बड़े लोगों की कहानियाँ। लोग अब इधर कि ओर नज़र भी नहीं फेरते। अच्छा है साहित्य का स्तर बढ़ना चाहिए। पर क्या वो कहानियाँ भारत कि मिटटी में लोटी हैं, क्या उनमे यहाँ कि नदियों का रस होगा, पता नहीं। खैर अब भी मेरी कहानियों पर मक्खियां भिन भीना रही हैं। शायद अब उन कहानियों का रस बस इन्हे ही भाता है। धूप बहुत है, गला सुख रहा है। चलो छोडो, इन कहानियों को यहीं इन मख्खियो के पास छोड़ जाता हुं। रचयेता हुं, निकलता हु किसी मॉल में बिकने वाली रचना कि तलाश में।

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-265💐
💐प्रेम कौतुक-265💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
" मंजिल का पता ना दो "
Aarti sirsat
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
मनोज कर्ण
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
■ मंगलमय हो प्राकट्य दिवस
■ मंगलमय हो प्राकट्य दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
बापक भाषा
बापक भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...