Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

सावन में शिव गुणगान

पावन सावन माह में,होता शिव गुणगान।
भोले हर्षित हो सदा,देते मधु वरदान।
देते मधु वरदान,कृपा जग पर बरसाते।
श्वेत पुष्प अरु भांग,सदा शिव को अति भाते।
अर्पण करते भक्त,वरद पाते मन भावन।
कहता कविवर ओम, मास सावन अति पावन।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कमियाबी क्या है
कमियाबी क्या है
पूर्वार्थ
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
फितरत
फितरत
kavita verma
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*Author प्रणय प्रभात*
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
मानवता
मानवता
Rahul Singh
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"क्रन्दन"
Dr. Kishan tandon kranti
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
2) “काग़ज़ की कश्ती”
2) “काग़ज़ की कश्ती”
Sapna Arora
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
Loading...