Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2019 · 1 min read

सावन के पर्व-त्योहार

*****************
सावन लाया है सखी, कई पर्व – त्योहार।
छिपा हुआ हर पर्व में, जीवन का आधार।।१

सावन पावन माह में , है हरियाली तीज।
घर-आँगन झूले पड़े, व्यंजन बने लजीज।। २

मिल जुल झूला झूलती, सखी-सहेली संग।
हरियाली सावन सखी, मन में भरे उमंग।। ३

सावन आया झूम के, हरने सबकी पीर।
माल पुए के संग में, बनी श्रावणी खीर।।४

,लोक-गीत से है सजी,कजरी का त्यौहार।
फूट पड़े नव कंठ से,विरह ,मिलन मनुहार। । ४

जाति-धर्म को जोड़ता, रेशम के दो तार।
रक्षा बंधन पर्व है, भ्रातृ-बहन का प्यार।। ५

होता सावन माह में,नागपंचमी पर्व।
नागदेव को दूध से, करते पूजन सर्व।। ६

शिवमय सावन माह की, महिमा अपरंपार।
काँधे काँवर को लिए,जाना शिव के द्वार।। ७

भारत में त्योहार का, बहुत बड़ा स्थान।
जिसमें होता है सदा, धर्म-कर्म का मान।।८
-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"यादों की बारात"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
Vishal babu (vishu)
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
क्वालिटी टाइम
क्वालिटी टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
ले बुद्धों से ज्ञान
ले बुद्धों से ज्ञान
Shekhar Chandra Mitra
पिता
पिता
Swami Ganganiya
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सफल
सफल
Paras Nath Jha
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...