Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 4 min read

#सामयिक_व्यंग्य…

#सामयिक_व्यंग्य…
◆”आ बैल! मुझे मार” से बचें मास्टर
★ दिल खोल कर बांटें नम्बर
【प्रणय प्रभात】
माध्यमिक शिक्षा मंडल की परीक्षा सम्पन्न होने से पहले मूल्यांकन कार्य का श्रीगणेश हो चुका है। ऐसे में एक समयोचित सलाह मन से देने का आज दिल कर रहा है। ध्यान से पढ़ेंगे तो मुनाफे में रहेंगे। कहना यह है कि- हायर सेकेंडरी और हाई स्कूल परीक्षा की उत्तर-पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करने वाले शिक्षकगण मामूली सी उदारता बरतें। ताकि अनचाही मुसीबत उनके सिर न आन पड़े। अगर वे देश के भविष्य मासूम बच्चों को अंक देते समय कृपणता की जगह उदारता बरतेंगे तो कोई आपदा नहीं आने वाली। सालाना परीक्षा का नतीजा ठीक रहेगा तो प्रयोगशाला बने प्रदेश की शिक्षा प्रणाली के सारे ऐब छुपे रह सकेंगे। शिक्षा को परखनली में डाले रखने के सरकारी मंसूबो पर आघात नहीं होगा। मुखिया जी और चौपालियों को थोथे गाल बजाने का मौका मिलेगा।
मदमस्त सरकार और निरंकुश अफ़सर ख़ुश होंगे तो आप पर गाज गिरना टल जाएगा। साथ ही अभिभावक और बच्चे भी हंड्रेड परसेंट संतुष्ट रहेंगे। उन्हें पुनर्मूल्यांकन के नाम पर लूट से छूट मिलेगी सो अलग। आपको भी कार्यवाही के नाम पर आर्थिक और मानसिक यंत्रणा से मुक्ति मिलेगी। जिसके लिए सरकारी दामाद लठ और झोला लेकर तैयार बैठे हुए हैं। हर साल की तरह, गिद्ध-दृष्टि लगाए। वैसे भी साल चुनावी और माहौल तनावी है। तभी तो कही परीक्षा से पहले पर्चे वायरल हो रहे हैं। तो कहीं ओटी वाले सवालों के जवाब केंद्रों तक पहुंच रहे हैं। बिल्कुल वैसे ही जैसे जेलों में बंद माफियाओं तक मोबाइल, हथियार और बाक़ी सामान पहुंचते हैं।
कुल मिला कर सवाल सरकारी भांजे-भांजियों के भविष्य की इमारत का है। फिर चाहे वो अवैध उत्खनन से निकली माफ़ियाई बालू पर ही क्यों न बन रही हो। आगे गिरे तो गिर जाए। न योग्य पैदा होंगे, न सरकारी जंवाई बन पाएंगे। घूमते रहेंगे कागज़ी अंकसूची लेकर। सूबे की साक्षरता दर तो बढाएंगे कम से कम। बिना मेहनत अच्छी श्रेणी पाएंगे तो पात्रता परीक्षा के पात्र बनेंगे। जितने ज्यादा पात्र होंगे उतनी ही तेज़ी से सरकार का भिक्षा-पात्र भरेगा। जीडीपी और इकोनॉमी आगे बढ़ेगी। डॉलर के मुकाबले रुपैया ताकतवर बबेगा।
फाइव-ट्रिलियन की इकोनॉमी बनाने में अकेला यूपी ही बाज़ी क्यों मारे? हर मामले में नवाचार की जगह नक़ल पर निर्भर “हार्ट-स्टेट” की साख क्यों गिरे, जिसे अगले 5 साल में “फेंफड़ा-प्रदेश” बनाने के बाद 10 साल में “गुर्दा-प्रदेश” बनाने की शपथ उठानी है? सरकार के अगाडी और गधे के पिछाड़ी चलने का हश्र पता न हो तो काहे के मास्टर? बच्चों को जयकारा नहीं सिखा पाओगे तो भीड़ का हिस्सा कैसे बनाओगे। जिस पर सियासत की हर नौटंकी की सफलता का किस्सा टिका है।
जबरन चाणक्य बनने की चेष्टा क्यों करना। वो भी “नंद” के बापों के साम्राज्य में, जहां “आह” भरना तो दूर, उसकी “चाह” तक करना “गुनाह” है। ऐसे में बेहतर है कि आप चुनावी साल की समयोचित सलाह को मानें। एकाध अंक बढा कर ही दें ताकि विद्यार्थियों के साथ आपका अपना भी भला हो। आशय किसी को धक्का देकर अगली कक्षा में भेजने का नहीं है। उसके लिए “रुक न जाना” जैसी “सःशुल्क” सेवा सरकार ख़ुद दे ही रही है। आप बच्चों को जबरन उत्तीर्ण करेंगे तो दयनीय राजकोष और दुर्बल हो जाएगा। ऐसे में निर्णय व नियंत्रण के मामले में निर्बल सरकार के सबल सिपहसालार “बढ़ न जाना” जैसी नई “योजना” गढ़ना शुरू कर देंगे। जो कल को आप जैसे खरबूजों के लिए “दुधारी छुरी” साबित होगी। आप अकारण “फुटबॉल” बन कर अफ़सरों और राजनेताओं के निशाने पर आ जाएंगे।
आपके ख़िलाफ़ तीसरा मोर्चा उन अवहिभावकों का होगा जो किसी न किसी सियासी आका को काका बनाए बैठे हैं। लिहाजा थोथे “आदर्शवाद” की “ऊबड़-खाबड़ पगडंडी” से बचें और समय की माँग के अनुसार “उदारवाद” व “अवसरवाद” का “बायपास रोड” काम में लें। जो आपको डायरेक्ट “राजपथ” से जोड़े रख सके। याद रहे किसी को एक अंक ज़्यादा देने से “सुनामी” नहीं आएगी, लेकिन आधा अंक कम देने से “महामारी” की “नई लहर” ज़रूर आ जाएगी। जो केवल और केवल आपके लिए “कहर” साबित होगी।
वैसे ही “हैप्पी वाले बड्डे” पर “लॉलीपॉप” और बज़ट में बड़े पैमाने पर झुनझुना वितरण के चक्कर में “चार्वाकी” खर्चे से खोपड़ी भन्नाई हुई है तंत्र की। उस पर पुरानी पेंशन को लेकर जायज़ बवाल से उपजी नाजायज़ टेंशन अलग से भेजा भड़का रही है। मंहगाई, भ्रष्टाचार और बेरोज़गारी की ओलावृष्टि की आशंकाएं गंजी खोपड़ी के लिए जी का जंजाल बन रही है। अस्थाई चाकर स्थाई होने का कोहराम मचा कर राम याद दिला रहे हैं। अब आप ही सोचिए कि “आ बैल! मुझे मार” वाली सोच ठीक है या फिर ईमानदारी की सनक के ख़िलाफ़ थोड़ा सा लोच? अब सलाह मानें या न मानें, आपकी मर्ज़ी। अपना काम तो राय-बहादुर, राय-चंद, राय साहब बने रहना है। भले ही कल सीबीआई दबोचे या सीडी।
अपनी भी छोटी सी समझ में यह बड़ी बात घुस चुकी है कि अब काम से नाम बनने वाला नहीं। नाम अब बदनाम होकर ही बनता है। तो क्यों न मौके, मौसम और दस्तूर का फायदा उठाएं और यह कह कर पिंड छुडाएं कि-
“बुरा न मानो होली है।
पोल ज़रा सी खोली है।।
जय जय मद्य-प्रदेश।।

★सम्पादक★
न्यूज़ & व्यूज़
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

2 Likes · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
क्या खोया क्या पाया
क्या खोया क्या पाया
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
Subhash Singhai
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
"संविधान"
Slok maurya "umang"
"इण्टरनेट की सीमाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
Ravi Prakash
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
निकल गया सो निकल गया
निकल गया सो निकल गया
TARAN VERMA
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...