Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2024 · 1 min read

सादगी मुझमें हैं,,,,

सादगी मुझमें हैं,,,,
मुझे पसंद हैं सादगी में रहना,,,
पर इतना भी नहीं आप वक्त गुजारे,,,
और हम उसे मोहब्बत समझ बैठे,,,
वक्त गुजारने के लिए आप तों घिरे हीं हैं अपने मनपसंद लोगों से,,,!!

168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
Sunil Maheshwari
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
चारों तरफ मीडिया की फौज, बेकाबू तमाशबीनों की भीड़ और हो-हल्ले
चारों तरफ मीडिया की फौज, बेकाबू तमाशबीनों की भीड़ और हो-हल्ले
*प्रणय प्रभात*
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
हर क्षण  आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
हर क्षण आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
Ramnath Sahu
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
फूल चुन रही है
फूल चुन रही है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बाकी है...!!
बाकी है...!!
Srishty Bansal
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
#भूली बिसरी यादे
#भूली बिसरी यादे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
Loading...