Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 21, 2016 · 1 min read

साथ अगर ….

साथ अगर जो तुम भी होते होता मजा बरसात में
शोख़ नज़र की हाला होती ग़ज़ल बने हर बात में
चूर नशेमन खो जाते हम…हसीं लम्हों की शान पे
प्रीत मिलन के किस्से गढ़ते मधुरिमी मुलाक़ात में
आनंद २१/०७/२०१६

154 Views
You may also like:
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच एक दिन
gurudeenverma198
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
कबीरा...
Sapna K S
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
अपने दिल को।
Taj Mohammad
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
"अशांत" शेखर
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
अनामिका सिंह
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H. Amin
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
Loading...