Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

सात दोहे

****************************************
जीवन पथ पर जो मिले , “जय” जीवन हो जाय।
साथ-साथ, पग-पग चले , जीवनसाथी कहाय ।। 1।।

एक कृति, कई रूप “जय”, जीवनसाथी निभाय।
संस्कार, जीवन-मरण सब , रीति रिवाज चलाय ।।2।।

माता-पिता, भाई-बहन, छोड़ साथ “जय” जाय ।
सुख-दुख, तक अंतिम घड़ी , साथी छोड़ न जाय ।।3।।

एक धुरी, दो पहिए “जय”, जीवन एक चलाय ।
उतार-चढ़ाव जिवन सब , चलत निरंतर जाय ।। 4 ।।

दो शरीर एक जान “जय” , सातहि वचन निभाय ।
सातों जनम पाऊँ कहे , जीवन साथी कहाय ।। 5 ।।

अंख हाथ सम साथी है , रिश्ता अमर कहा ।
चोट हत अंख रोय “जय”, आंसू हाथ छिपाय ।। 6।।

आधा-आधा अंग अर्ध , नारेश्वर हो जाय ।
साथी का यह रूप “जय”, जग में पूजा जाय ।। 7 ।।

संतोष बरमैया “जय”
कुरई, सिवनी, म.प्र.
******************************

Language: Hindi
538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
विचार, संस्कार और रस-4
विचार, संस्कार और रस-4
कवि रमेशराज
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
तू भी तो
तू भी तो
gurudeenverma198
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
■ विशेष व्यंग्य...
■ विशेष व्यंग्य...
*Author प्रणय प्रभात*
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
Ravi Prakash
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
2245.
2245.
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
Umender kumar
बेटी को जन्मदिन की बधाई
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
Loading...