Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

सही नहीं है /

:: सही नहीं है ::
——————-

यह जो
आपाधापी है
सिंहासन पा लेने की,
सही नहीं है ।

इसको पाया,
उसको खोया ।
कचरे को
कचरे से धोया ।
उदरम्भरि
अनात्म प्रगति की
माला में इक
मनका गोया ।

यह जो
गहमागहमी है
पद्मासन पा लेने की,
सही नहीं है ।

इसे समेटा
उसे लपेटा ।
दौड़-दौड़ कर
धरा चपेटा ।
तम-रजनी की
स्याह-सेज पर
चपल,धवल मन
औंधा लेटा ।

यह जो
अफरा-तफरी है
वज्रासन पा लेने की,
सही नहीं है ।

इसे उतारा,
उसे चढ़ाया ।
मौका ताका
दाँव लगाया ।
आगे बढ़तीं
शाखें तोड़ीं,
कली मसल दी,
पुष्प गिराया ।

यह जो
नोंचा-खोंची है
मकरासन पा लेने की,
सही नहीं है ।

गिरिजा काँपे,
मस्ज़िद टूटे ।
मंदिर की
प्राची हिल जाए ।
और मिले फिर
और मिले,
और मिले
पूरा मिल जाए ।

यह जो
जल्दी-जल्दी है
इंद्रासन पा लेने की,
सही नहीं है ।

यह जो
आपाधापी है
सिंहासन पा लेना की,
सही नहीं है ।
०००
—- ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 12 Comments · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"चाणक्य"
*प्रणय प्रभात*
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
"तब पता चलेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
Ravi Prakash
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2661.*पूर्णिका*
2661.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
अरे! डॉक्टर की बीवी हो
अरे! डॉक्टर की बीवी हो
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
Loading...