Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

सर्द हवाएं

थोड़ी सर्द हवाओं में एक राह पर हम जाते हैं
फिर एक मोड़ पर थोड़ा ठहर हम जाते हैं
तकते हैं कुछ देर को अम्बर को
फिर तारों संग बतियाते हैं
थोड़ी सर्द हवाओं में एक राह पर हम जाते हैं
ये सर्द हवाओं के झोंके कितने है अनोखे
भला क्यों इनको ऐसे जानें दे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"समष्टि"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
Priya princess panwar
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
Neelam Sharma
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
भरत कुमार सोलंकी
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
कभी सोचता हूँ मैं
कभी सोचता हूँ मैं
gurudeenverma198
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
स्वार्थवश या आपदा में
स्वार्थवश या आपदा में
*प्रणय प्रभात*
दिल कहे..!
दिल कहे..!
Niharika Verma
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
इस सियासत की अगर मुझको अक्ल आ जाए
इस सियासत की अगर मुझको अक्ल आ जाए
Shweta Soni
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...