Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई

सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
फिर इतिहास जी उठा नस्लों की बात आई

जो बात सुलझानी थी वो बात उलझाई क्यों
क्यों हंगामा हुआ क्यों असलहों की बात आई
मारूफ आलम

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
"हाशिया"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
जय लगन कुमार हैप्पी
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
होली का रंग
होली का रंग
मनोज कर्ण
जच्चा-बच्चासेंटर
जच्चा-बच्चासेंटर
Ravi Prakash
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
2651.पूर्णिका
2651.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
पुलवामा शहीद दिवस
पुलवामा शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
Loading...