Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2016 · 1 min read

समय

समय बदलते देर न लगती,
क्यों खोवे है आस ?
नव प्रभात फिर से आवेगा,
रख रे ऐसी आस ।
जब झेलेगा सिर पर अपने,
श्रम-घन की तू मार।
अवधूत तभी सुख का सूरज,
दे सकेगा उजास ।

Language: Hindi
339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from avadhoot rathore
View all
You may also like:
" मँगलमय नव-वर्ष 2023 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
सनम
सनम
Satish Srijan
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
💐प्रेम कौतुक-534💐
💐प्रेम कौतुक-534💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी, ज़िंदगी ही होती है
ज़िंदगी, ज़िंदगी ही होती है
Dr fauzia Naseem shad
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
■ खोज-बीन...
■ खोज-बीन...
*Author प्रणय प्रभात*
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
ढोंगी बाबा
ढोंगी बाबा
Kanchan Khanna
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
Loading...