Oct 18, 2016 · 1 min read

समझा है कभी नारी नज़ाकत को क्या– जितेन्द्र कमल आनंद ( ५३)

रुबाई :::
———-
समझा है कभी नारी नज़ाकत को क्या ।
समझा है कभी फौज़ी शहादत को क्या ।
ये सृजन , वो सुरक्षा ही किया करते हैं ।
समझा है इस अनमोल जरूरत को क्या ।।५३!!

—— जितेन्द्र कमल आनंद

1 Like · 108 Views
You may also like:
पिता का दर्द
Nitu Sah
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
ऐ वतन!
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
अजीब कशमकश
Anjana Jain
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
The Magical Darkness
Manisha Manjari
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
Loading...