Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब

सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम बड़ा होता था(हिरण्यकाश्प)
त्रेतायुग में दूसरे देश में हुए और इनका नाम और छोटा हो गया(रावण)
द्वापर में ये अपने घर में हुए और इनका नाम और छोटा होगा(कंस )
कलयुग में ये अपने अंदर होंगे और इनका नाम होगा (मै आपका मन और व्यवहार)

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
Apni Qimat
Apni Qimat
Dr fauzia Naseem shad
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
gurudeenverma198
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Sukoon
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
"जुबांँ की बातें "
Yogendra Chaturwedi
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
श्री गणेश स्तुति (भक्ति गीत)
श्री गणेश स्तुति (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
जिससे मिलने के बाद
जिससे मिलने के बाद
शेखर सिंह
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
कौन यहाँ पर किसकी ख़ातिर,, बैठा है,,
कौन यहाँ पर किसकी ख़ातिर,, बैठा है,,
Shweta Soni
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...