Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2016 · 1 min read

संघर्ष

पल पल करके ही यहाँ,रहें बीतते वर्ष
होते लेकिन कम नहीं, जीवन के संघर्ष

संघर्षों से सीख ली , हमने तो इक बात
हिम्मत से कर सामना ,मिलती भी सौगात

खाली जाते हैं नही , जीवन के संघर्ष
अनुभव के भी रूप में ,ये देते निष्कर्ष

जूझे इनसे रात दिन ,मिला न पर आराम
जीवन पूरा हो गया , संघर्षों के नाम

जीवन के संघर्ष में,होकर कुछ मजबूर
पढ़ लिख कर भी देखिये ,बन जाते मजदूर
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Comment · 564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
■ एक ही उपाय ..
■ एक ही उपाय ..
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
विचार
विचार
Godambari Negi
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
"काँच"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
SPK Sachin Lodhi
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये आँखों से बहते अश्क़
ये आँखों से बहते अश्क़
'अशांत' शेखर
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
दुनियाभर में घट रही,
दुनियाभर में घट रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
खो गयी हर इक तरावट,
खो गयी हर इक तरावट,
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
Loading...