Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2016 · 1 min read

संघर्ष

पल पल करके ही यहाँ,रहें बीतते वर्ष
होते लेकिन कम नहीं, जीवन के संघर्ष

संघर्षों से सीख ली , हमने तो इक बात
हिम्मत से कर सामना ,मिलती भी सौगात

खाली जाते हैं नही , जीवन के संघर्ष
अनुभव के भी रूप में ,ये देते निष्कर्ष

जूझे इनसे रात दिन ,मिला न पर आराम
जीवन पूरा हो गया , संघर्षों के नाम

जीवन के संघर्ष में,होकर कुछ मजबूर
पढ़ लिख कर भी देखिये ,बन जाते मजदूर
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Comment · 453 Views
You may also like:
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
आ.अ.शि.संघ ( शिक्षक की पीड़ा)
Dhananjay Verma
चलती सांसों को
Dr fauzia Naseem shad
बौद्ध राजा रावण
Shekhar Chandra Mitra
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
✍️एक ख्वाइश बसे समझो वो नसीब है
'अशांत' शेखर
*कुर्सी* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
सावन
Sushil chauhan
सब्जियों पर लिखी कविता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
#मेरे प्यारे बाबा दादी#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
Dr.Priya Soni Khare
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
देश की रक्षा करें हम
Swami Ganganiya
💐💐ये पदार्थानां दास भवति।ते भगवतः भक्तः न💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
वक्त
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आओ हम याद करे
Anamika Singh
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" लहर मेरे मन की "
Dr Meenu Poonia
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यूं मरनें मारनें वाले।
Taj Mohammad
Loading...